बड़े होकर क्या बनोगे | Bade Hokar Kya Banoge Kids Story | Kids Story In Hindi

नमस्कार दोस्तों स्वागत है आपका हमारे ब्लॉक के अंदर तो दोस्तों आज किस पोस्ट में हम आपको एक अच्छी सी कहानी सुना नहीं जा रहा हूं जिसको पढ़ कर दोस्तों आपको बहुत अच्छा लगेगा और साथी साथ दोस्तों आपको ज्ञान भी मिलेगा दोस्तों इस कहानी को पूरा शुरू से लेकर लास्ट तक पढ़ना और गाइड अगर आपको यह काम अच्छे लगे तो आप भी मुझे के थ्रू हम सब का भी कर सकते हो।



 बड़े होकर क्या बनोगे


बड़े होकर क्या बनोगे | Bade Hokar Kya Banoge Kids Story | Kids Story In Hindi
बड़े होकर क्या बनोगे | Bade Hokar Kya Banoge Kids Story | Kids Story In Hindi



बहुत समय पहले की बात है एक शहर में एक बड़ा सारे स्कूल था उस बडे स्कूल में दूर-दूर से बच्चे पढ़ने के लिए आते थे। और उसे स्कूल में गट्टू नाम का एक बच्चा भी पढ़ता था गट्टू अपने मां बाप के पास एक छोटे से घर में रहता था। गट्टू में फंसा ऑटो रिक्शा चलाने वाले थे जो रोज के रोज रखो अपने ऑटो रिक्शा से स्कूल छोड़ के आते थे एक दिन जब बच्चों की टीचर बीमार हुई थी तब वह स्कूल नहीं आई तब प्रिंसिपल कोउन्होंने मैसेज कर दिया कि मेरी तबीयत खराब है मैं आज स्कूल नहीं आ सकती तो प्रिंसिपल सर मैडम की बदली बच्चों के कमरे में खुद पढ़ाने के लिए चले गए।


प्रिंसिपल सर ने बच्चों की से कहा कि स्टूडेंट्स आज तुम्हारी टीचर अंजली स्कूल नहीं आ पाई है क्योंकि उनकी तबीयत खराब हो गई है इसलिए मैं उनकी जगह मैं आपका आज की क्लास लूंगा। तो फ्रेंड आपको मैं बता दूं कि आज मैं आपको किताबों के बारे में कुछ नहीं पढ़ाने वाला हूं आज मैं कुछ और ही आपको बताऊंगा।प्रिंसिपल सर ने कहा कि तुम सभी बच्चे बड़े होकर क्या बनना चाहते हो तो सभी बच्चे एक साथ बोलने लग जाता है कि मैं डॉक्टर में टीचर पुलिस ऑफिसर मैं साइंटिस्ट तो सभी बच्चे एक साथ बोलने लग जाते जिस वजह से प्रिंसिपल सर करते हैं एक साथ नहीं बोलो मैं पूछता हूं तो एक-एक करके बताना जिससे हम सभी को समझ में भी आएगा तो प्रिंसिपल सर सभी से एक एक करके पूछते हैं तो एक लड़का बोलता है मैं साइंटिस्ट बनना चाहता हूं दूसरा लड़की बोलती है डॉक्टर बनना चाहती हूं तीसरा लड़का बोलता है मैं अध्यापक बनना चाहता हूं इसी प्रकार सभी बता देता था लास्ट में गट्टू का नंबर आता है तब प्रिंसिपल सर कटों से पूछते हैं कि तुम क्या बनना चाहते हो तो गट्टू बोलता है कि मैं एक ऑटो ड्राइवर बनना चाहता हूं प्रिंसिपल सर पूछते हैं तुम ऑटो ड्राइवर क्यों बनना चाहते हैं।गट्टू रहता है कि साल में पापा भी ऑटो चलाते हैं तब मैं भी ऑटो ही चलाऊंगा बड़ा होकर ऑटो ड्राइवर ही बनूंगा। गट्टू की बात सुनकर प्रिंसिपल सर काफी परेशान हो जाते हैं उनको कुछ समझ में नहीं आता है कि कर तू कहना क्या चाहता है।प्रिंसिपल के पहुंचने से पहले कि तुम ऑटो ड्राइवर क्यों बनना चाहते हो तब स्कूल की घंटी बजाते हैं और छुट्टी हो जाती है और सभी बच्चे वहां से चले जाते हैं।


जब दूसरे दिन भी उनकी टीचर स्कूल नहीं आती है कि उनकी तबीयत ज्यादा ही खराब होती है इस वजह से तब दूसरे दिन भी प्रिंसिपल सर उनका बच्चों की क्लास ले लेते हैं और बच्चों से कहता है यह मैं आज भी तुम्हें किताबों के अलावा और कुछ भी पूछ लूंगा तुम्हें किताब नहीं पढ़ लूंगा। प्रिंसिपल सर सभी बच्चों से पूछते हैं कि तुम्हारा फेवरेट हीरो कौन सा है। तब सभी बच्चे प्रिंसिपल सर को बताने लग जाते हैं कि मेरा हीरो सलमान खान दूसरा बच्चा बोलता है कि मेरा हीरो अक्षय कुमार है तीसरा बच्चा बोलता है कि मेरा हीरो आमिर खान है ऐसे मतलब सभी बच्चे बता देते कि उनको फेवरेट हीरो कौन सा है तो लास्ट में गट्टू की बारी आती है तो उसे प्रिंसिपल से पूछते हैं कि तुम्हारा फेवरेट हीरो कौन सा है। गट्टू जवाब देता है सर मेरा फेवरेट हीरो शाहरुख खान तब प्रिंसिपल सर कहते हैं कि शाहरुख खान के पिता तो वकील थे इस हिसाब से शाहरुख खान को एक्टर नहीं बनना चाहिए था शाहरुख खान को वकील बनना चाहिए था तब गट्टू बहता है सर वह एक अच्छे एक्टर है जिस वजह से हीरो बने हैं प्रिंसिपल सर देते हैं लेकिन उनके पिताजी तो वकील थे तो इसलिए में एक्टर बनने की बजाय एक वकील बनना चाहिए था गट्टू बताइए सर की वकील बन्ना गाना बन्ना शाहरुख खान पर निर्भर करता है उसके पापा पर नहीं मैं खुद का पापा का काम नहीं करना चाहते हैं और जरूरी थोड़ी ना है कि पापा वकील का काम करते तो बेटा ही वकील का ही काम करेगा यह सारी बात अगर तू अच्छे से समझ गया प्रिंसिपल सरकभी यह बात समझ में आ गई कि गट्टू का सब कुछ सही समझ में आ गया तो प्रिंसिपल सर ने गट्टू कि गट्टू तुम्हारे पापा ऑटो ड्राइवर है तो जरूरी थोड़ी ना है कि तुम भी ऑटो ड्राइवर  ही बनोगे।


प्रिंसिपल सर की बात बात तो समझ में आ गई तो बच्चों ने कहा कि सर मैं बड़ा होकर एक पुलिस वाला बनूंगा इस तरीके से प्रिंसिपल सर ने गट्टू को समझा दिया कि मैं बड़ा होकर क्या बनेगा।

शिक्षा

 दोस्तों इस कहानी से हमें शिक्षा मिलती है कि हम मेहनत करके अगर कुछ बनना चाहते हैं सफल होना चाहते हैं तो आसानी से सफल हो सकते हैं।


Post a Comment

0 Comments